Apple कंपनी के 10 प्रोडक्ट्स जिन्हें दुनिया ने कहा- ‘नहीं चाहिए’

53
ipod hifi
 
 
आइपॉड हाइ-फाई
आइपॉड हाइ-फाई एक पोर्टेबल म्यूजिक प्लेयर था। हालांकि खराब साउंड क्वालिटी की वजह से यह बाजार में पिट गया था।
 
 
imac
आइमैक
एप्पल ने माउस का कॉन्सेप्ट पेश किया था और आइमैक नाम की एक डिवाइस बनाई थी। यह पॉइंटिंग डिवाइस थी, लेकिन यह उपयोग में काफी कठिन एवं आकार में असुविधाजनक थी।
 
 
Apple TV
 
 
एप्पल टीवी
आज एप्पल टीवी की बिक्री हाथों-हाथ हो रही है लेकिन 1993 में जब स्टीव जॉब्स ने मैकिनटोश टीवी को बाजार में पेश किया था, तब यह फ्लॉप साबित हुआ था। जॉब्स चाहते थे कि लोग डेस्कटॉप में ही टीवी का मजा लें। लेकिन इस डिवाइस की केवल 10000 यूनिट्स ही बिक पाई थीं।
 
 
apple
 
 
पिपिन
बंडाय कंपनी द्वारा बनाया गया पिपिन एक गेम कंसोल था। यह एप्पल का पहला गेमिंग प्रॉडक्ट था, जिसे 1997 में बाजार में पेश किया गया था। इसकी केवल 42000 यूनिट्स ही बिक पाई थीं।
 
 
apple 3
 
एप्पल 3
एप्पल 2 की सफलता के बाद कंपनी ने एप्पल 3 को बनाया लेकिन इसका डिजाइन असुविधाजनक होने की वजह से लोगों ने इसमें रुचि नहीं दिखाई और कंपनी को 14000 यूनिट्स वापस मंगवानी पड़ीं।
 
 
pda
 
 
न्यूटन पीडीए
1987 में बनाया गया न्यूटन पीडीए 11 वर्षों तक चलन में रहा। हालांकि इसका उपयोग काफी सीमित था।
 
 
quicktech
 
 
क्विकटेक
एप्पल ने क्विकटेक नाम से 1994 में पहला डिजिटल कैमरा लॉन्च किया था। लेकिन इसे समय से पहले उठाया गया कदम कहा जा सकता है, क्योंकि उस वक्त एनालॉग कैमरों का बाजार चरम पर था और लोगों ने डिजिटल कैमरे में रुचि नहीं दिखाई। इस वजह से 1997 में कंपनी को इसका उत्पादन बंद करना पड़ा।
 
 
macintosh
 
 
मैकिनटोश पोर्टेबल
एप्पल का पहला लैपटॉप कम्प्यूटर मैकिनटोश पोर्टेबल नाम से लॉन्च किया गया था। इसमें बैटरी लाइफ की समस्या तो थी ही, साथ ही 1989 में इसकी कीमत भी काफी ज्यादा थी। उस वक्त इसे 7,300 डॉलर में बेचा जाता था।
 
 
 
power mac 4g
 
 
 
पावर मैक जी4

एप्पल का पहला पतला कम्प्यूटर था पावर मैक जी4। इसे साल 2000 में लॉन्च किया गया था, लेकिन यह काफी महंगा था। इसकी कीमत 1,799 डॉलर थी। इसमें इंटरनल फैन न होने की वजह से यह कम्प्यूटर काफी गरम हो जाता था। आखिरकार एक साल के अंदर ही कंपनी को इस कम्प्यूटर का निर्माण बंद करना पड़ा था।
 
 
 
rokr
 
 
आरओकेआर ई1
आरओकेआर ई1 फोन का निर्माण मोटोरोला द्वारा किया जाता था। लेकिन यह पला फोन था, जो आइट्यून्स को सपोर्ट करता था। एप्पल ने साल 2005 में आइट्यून्स को आधिकारिक रूप से लॉन्च किया था। इसकी स्टोरेज कैपेसिटी काफी लिमिटेड थी और फाइल ट्रांसफर स्पीड भी बेहद धीमी थी। इन सब खामियों की वजह से कंपनी ने मोटोरोला से करार खत्म कर दिया था।
 
 
दुनिया में कम ही लोग कुछ मज़ेदार पढ़ने के शौक़ीन हैं। आप भी पढ़ें। हमारे Facebook Page को Like करें – www.facebook.com/iamfeedy

दुनिया में कम ही लोग कुछ मज़ेदार पढ़ने के शौक़ीन हैं। आप भी पढ़ें। हमारे Facebook Page को Like करें – www.facebook.com/iamfeedy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Contact

CONTACT US


Social Contacts



Newsletter