गाड़ियों में 7 रंगों की होती हैं नंबर प्लेट, जानें- हर रंग का सही मतलब

444


आप हर रोज सड़कों पर तमाम तरह के वाहन देखते होंगे, आपकी नजर वाहनों में लगे अलग-अलग रंगों की नंबर प्लेट पर जाती होगी, जिसके बाद आप कंफ्यूज हो जाते होंगे. दरअसल अलग-अलग रंग की नंबर प्लेट का अलग-अलग मतलब भी होता है. आज हम आपको हर रंग के नंबर प्लेट के बारे में बताते हैं.

 

सफेद प्लेट: 

सबसे पहले सफेद रंग की नंबर प्लेट की बात करते हैं, यह प्लेट आम गाड़ियों का प्रतीक होती है, इस वाहन का कमर्शियल यूज नहीं किया जाता है. इस प्लेट के ऊपर काले रंग से नंबर लिखे होते हैं. वैसे ज्यादातर लोग सफेद रंग देखकर आसानी से अंदाजा लगा लेते हैं कि यह पर्सनल गाड़ी है.

 

पीली प्लेट:

आप पीली रंग की नंबर प्लेट को देखकर आसानी से पहचान लेते हैं कि यह टैक्सी है. पीली प्लेट आमतौर पर उन ट्रकों या टैक्सी में लगी होती हैं, जिनका आप कमर्शियल उपयोग करते हैं. इस प्लेट के अंदर भी नंबर काले रंग से लिखे होते हैं.

 

नीली प्लेट: 

नीले रंग की नंबर प्लेट एक ऐसे वाहन को मिलती है, जिसका इस्तेमाल विदेशी प्रतिनिधियों द्वारा किया जाता है. इस रंग की नंबर प्लेट की गाड़ियां आपको दिल्ली जैसे शहरों में आसानी से देखने के लिए मिल जाएंगी. नीली प्लेट यह बताती है कि यह गाड़ी विदेशी दूतावास की है, या फिर यूएन मिशन के लिए है. नीले रंग की इस प्लेट पर सफेद रंग से नंबर लिखे होते हैं.

 

काली प्लेट: 

काले रंग की प्लेट वाली गाड़ियां भी आमतौर पर कमर्शियल वाहन ही होती हैं, लेकिन ये किसी खास व्यक्ति के लिए होती है. इस प्रकार की गाड़ियां किसी बड़े होटल में खड़ी मिल जाएंगी. ऐसी कारों में काले रंग की नंबर प्लेट होती है और उसपर पीले रंग से नंबर लिखा होता है.

 

लाल प्लेट: 

अगर किसी गाड़ी में लाल रंग की नंबर प्लेट है तो वह गाड़ी भारत के राष्ट्रपति या फिर किसी राज्य के राज्यपाल की होती है. ये लोग बिना लाइसेंस की ऑफिशियल गाड़ियों का उपयोग करते हैं. इस प्लेट में गोल्डन रंग से नंबर लिखे होते हैं और इन गाड़ियों में लाल रंग की नंबर प्लेट पर अशोक की लाट का चिन्ह बना हुआ होता है.

 

तीर (arrow) वाली नंबर प्लेट:

सैन्य वाहनों के लिए अलग तरह की नंबरिंग प्रणाली का इस्तेमाल किया जाता है. ऐसे वाहनों के नंबर को रक्षा मंत्रालय द्वारा आवंटित किया जाता है. ऐसी गाड़ियों की नंबर प्लेट में नंबर के पहले या तीसरे अंक के स्थान पर ऊपरी ओर इशारा करते तीर का निशान होता है, जिसे ब्रॉड एरो कहा जाता है. तीर के बाद के पहले दो अंक उस वर्ष को दिखाते हैं, जिसमें सेना ने उस वाहन को खरीदा था, यह नम्बर 11 अंकों का होता है.




दुनिया में कम ही लोग कुछ मज़ेदार पढ़ने के शौक़ीन हैं। आप भी पढ़ें। हमारे Facebook Page को Like करें – www.facebook.com/iamfeedy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Contact

CONTACT US


Social Contacts



Newsletter


You cannot copy content of this page