इन 8 को आज पहचान लोगे तो कल इनका नाम गूगल नहीं करना पड़ेगा!

463


सचिन तेंडुलकर ने जब डेब्यू किया तो साल था 1989, राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली आए तो वो साल था 1996, ऐसे ही जब 2004 आया तो भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने पहली बार ब्लू जर्सी पहनी.

इसी तरह से हर साल क्रिकेट को कुछ नए खिलाड़ी मिलते हैं. कुछ गुम हो जाते हैं और कुछ अपनी खास पहचान बनाते हैं. ऐसा ही साल है 2020. भले ही इस साल बहुत ज़्यादा क्रिकेट नहीं खेला गया. लेकिन फिर भी दुनियाभर के कई ऐसे युवा खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपने टैलेंट से अपने आने का इशारा दे दिया है.

आज हम आपको दुनियाभर के उभरते हुए आठ ऐसे खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे, जो आने वाले समय में गूगल पर खूब सर्च किए जाएंगे. यानि आने वाले सालों में वो इंटरनेशनल क्रिकेट की एक पहचान बन सकते हैं.

इस लिस्ट में भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूज़ीलैंड, श्रीलंका, वेस्टइंडीज़, अफगानिस्तान और साउथ अफ्रीका जैसे हर देश से एक खिलाड़ी मौजूद है.

 

चलिए फिर शुरुआत करते हैं:

 

1. यशस्वी जायसवाल

18 साल के यशस्वी जायसवाल का नाम जब पहली बार क्रिकेट फैंस की नज़रों में आया. तब से ही ढेर सारी कहानियां आनी शुरू हो गईं. मुंबई जाकर बसे, और अपना करियर बनाने वाले इस स्टार ने अंडर 19 विश्वकप में ऐसा प्रदर्शन किया कि दुनिया उनकी दीवानी हो गई.

2019 में विजय हज़ारे ट्रॉफी में यशस्वी ने सिर्फ नौ दिन में तीन शतक बनाकर धमाका कर दिया. इसमें एक तो दोहरा शतक भी था. इस दोहरे शतक के साथ वो लिस्ट ए में सबसे कम उम्र में दोहरा शतक बनाने वाले बल्लेबाज़ बन गए. विजय हज़ारे ट्रॉफी में इस शानदार प्रदर्शन के बाद उन्होंने अंडर 19 वर्ल्डकप में इंडिया के लिए ओपन किया और धमाका कर दिया.

 

यशस्वी जायसवाल.

 

वो इस टूर्नामेंट में छह मैचों में 400 रनों के साथ सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ रहे. वो इस टूर्नामेंट के मैन ऑफ दि टूर्नामेंट भी रहे. हालांकि आईपीएल में राजस्थान के लिए वो उतना कमाल नहीं कर पाए.

यशस्वी जायसवाल सचिन तेंडुलकर और वसीम जाफर को अपना आइडल मानते हैं.

राजस्थान रॉयल्स में यशस्वी के साथी रॉबिन उथप्पा ने उन पर कहा था,

”यशस्वी भविष्य के एक शानदार खिलाड़ी हैं. मुझे लगता है उन्होंने पिछले डॉमेस्टिक क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है. वो भविष्य में भारत के लिए खेल सकते हैं.”

 

2. टॉम बैंटन:

इस लड़के का नाम बहुत सारे इंडियंस ने 19 दिसंबर 2019 के दिन सुना. जब कोलकाता में हो रहे आईपीएल 2020 ऑक्शन में इस खिलाड़ी को केकेआर ने एक करोड़ में खरीदा.

2019 इंग्लिश समर में जब बैंटन ने बैटिंग की तो उनके शॉट्स की तुलना केविन पीटरसन से की जाने लगी. बचपन में हॉकी को पहला प्यार मानने वाले टॉम बैंटन ने बाद में अपने शॉट्स से सबको फैन बना लिया.

 

टॉम बैंटन.

 

बैंटन क्रिकेट में एबी डीविलियर्स को अपना रोल मॉडन मानते हैं.

एक बार मार्कस ट्रेस्कॉथिक ने कहा भी था कि

‘वो एक बढ़िया लड़का है जो कि कड़ी मेहनत में विश्वास करता है.’

 

3. नूर अहमद:

15 साल की उम्र में हममें से कितने होते हैं, जिन्हें ज़िन्दगी में क्या करना है, ये सब नहीं पता होता. लेकिन अफगानिस्तान के इस 15 साल के गेंदबाज़ ने 14 साल की उम्र में ही अफगानिस्तान की अंडर-19 टीम में जगह बना ली. उनके हाई आर्म ऐक्शन की वजह से उन्हें विकेट पर सफलता भी मिलने लगी.

अपने दूसरे ही यूथ वनडे में उन्होंने इंडिया के खिलाफ 30 रन देकर चार विकेट लिए, तो दुनियाभर में नूर का नाम हो गया. नूर को नबी, राशिद, मुजीब के बाद भविष्य का अफगानी स्टार भी कहा जा सकता है.

 

नूर अहमद. अफगानिस्तान. फोटो: Getty Images

 

नूर क्रिकेट में राशिद खान को अपना रोल मॉडल मानते हैं.

अफगानिस्तान क्रिकेट के डायरेक्टर ने उन्हें लेकर कहा है कि

‘अगर वो अपनी स्टॉक बॉल इस्तेमाल ज़्यादा बेहतर करते हैं तो उनकी गुगली और ज़्यादा खतरनाक हो जाएगी.’

 

4. जोश फिलिपे:

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने बतौर विकेटकीपर इस ऑस्ट्रेलियन स्टार को टीम रखा. खैर, ये बात और है कि पहले सीज़न में टीम उनका भरपूर इस्तेमाल नहीं कर पाई.

ऑस्ट्रेलिया से आने वाले इस युवा खिलाड़ी के खून में ही क्रिकेट है. पिता स्टेट की सेकेंड इलेवन के लिए खेले जबकि मां वेस्टन ऑस्ट्र्लिया के लिए खेलीं.

जोश फिलिपे को पहचान दिलाई स्टीव स्मिथ ने. स्मिथ ने फिलिपे को 2019 के बिग बैश में मौका दिया. सिडनी सिक्सर्स के लिए फाइनल मैच में उन्होंने 29 गेंदों में 52 रनों की पारी खेल टीम को खिताब जिता दिया और रातोंरात हीरो बन गए.

विराट कोहली ने भी इस खिलाड़ी के टैलेंट को परखा और आरसीबी के कैम्प में शामिल कर लिया.

 

जोश फिलिपे. फोटो: Getty Images

 

जोश फिलिप माइकल हसी और स्टीवन स्मिथ को अपना आइडल मानते हैं.

बिश बैश लीग के दौरान स्टीव स्मिथ ने एक बार फिलिपे पर कहा था,

”मैंने कई बार कहा है कि इस बच्चे में एक खास टैलेंट है. उसके बल्ले में गज़ब का स्विंग है. वो अपने शॉट्स में जिस तरह की ताकत लाता है, वो कमाल की है.”

 

5. रचिन रविन्द्र:

20 साल के ऑल-राउंडर रचिन रविन्द्र का नाम न्यूज़ीलैंड क्रिकेट में अब जाना पहचाना है. शानदार तकनीक के साथ तेज़ी से रन बनाना और स्पिन बोलिंग इनकी खासियत है. रचिन साल 2019 से न्यूज़ीलैंड की ए टीम का हिस्सा हैं. जबकि नेशनल टीम में वो लगातार दस्तक दे रहे हैं.

रचिन इंडियन लीजेंड सचिन तेंडुलकर को अपना क्रिकेटिंग आइडल मानते हैं. रचिन के पिता ने उन्हें सचिन की बहुत सारी कहानियां सुनाई हैं. रचिन ने बचपन में सचिन के बहुत सारे वीडियोज़ भी देखे हैं, जिन्हें देखकर वो बहुत ज़्यादा प्रभावित हुए.

 

रचिन रविन्द्र. फोटो: Getty Images

 

21 साल की उम्र में ही उन्होंने 1800 रन और 37 विकेट अपने नाम कर लिए हैं.

वेलिंगटन टीम के हेड कोच ग्लेन पॉकनाल ने उनके बारे में बताया था,

”उनका (रचिन का)  लगातार बेहतर होने का सफर कमाल है. वो रोज़ सुबह अपने पिता के साथ ट्रेनिंग करते हैं, जिम में जाते हैं. शाम में वो फिर से ट्रेनिंग करते हैं. पिछले कुछ समय में उन्होंने अपने खेल में अलग ही लेवल पर सुधार किया है.”

 

6. अकबर अली:

साल 2020 में अंडर 19 क्रिकेट को एक नया वर्ल्ड चैम्पियन मिला. बांग्लादेश ने पहली बार विश्वकप खिताब जीता. बांग्लादेश को इस हारे हुए मुकाबले में जिताने वाले प्लेयर रहे अकबर अली. मुश्किल हालात में अकबर ने नॉट-आउट 43 रन बनाए और टीम को जीत दिलाकर अपने लाखों फैंस बना लिए.

सॉलिड बल्लेबाज़ी तकनीक वाले इस प्लेयर ने बांग्लादेश को एक नया स्टार मिलने की झलक दी है.

अकबर अपने पिता और मोहम्मद मुस्तफा को अपना आइडल मानते हैं.

 

अकबर अली. फोटो: Getty Images

 

बांग्लादेश के अंडर 19 कोच नवीद नवाज़ का अकबर में कितना भरोसा है. ये बताता है उनका ये बयान,

”उसने पिछले दो साल में अविश्वसनीय खेल दिखाया है. नंबर सात पर बैटिंग करते हुए उसने सबसे मुश्किल काम किया है. वो जब तक मैदान पर रहता है, तब तक टीम का विश्वास बना रहता है.”

 

7. गेराल्ड कोइटज़िया:

19 साल की उम्र में 145 kph की गेंद. ये कमाल है सिर्फ 19 साल के साउथ अफ्रीकन युवा गेंदबाज़ का. गेराल्ड ने साउथ अफ्रीका के लिए एक नहीं बल्कि दो-दो T20 विश्वकप खेले हैं. मज़ांसी सुपर लीग में भी गेराल्ड का नाम अब जाना पहचाना है.

साल 2000 में जन्मे गेराल्ड ने 42 से ज़्यादा विकेट अपने नाम किए हैं. गेराल्ड की प्रतिभा की वजह से उन्हें भविष्य का साउथ अफ्रीकी सुपरस्टार भी कहा जाने लगा है.

 

गेराल्ड कोइटज़ी. फोटो: Getty Images

 

गेराल्ड, साउथ अफ्रीकन ग्रेट डेल स्टेन को अपना क्रिकेटिंग आइडल मानते हैं.

साउथ अफ्रीकन लीजेंड एलन डोनाल्ड ने एक बार गैराल्ड के बारे में कहा था,

”मुझे इसमें कोई भी शक नहीं है कि गेराल्ड जल्द ही साउथ अफ्रीकन टीम में आ जाएंगे. वो बहुत तेज़ हैं, उनमें गेंदों को स्विंग कराने की नैचुरल एबिलिटी है.

 

8. जेडन सील्स:

वेस्टइंडीज़ की धरती से कितने ही पेस बॉलर निकले. कर्टली एम्ब्रॉस, कर्टनी वॉल्श या फिर मैल्कम मार्शल. इन तेज़ गेंदबाज़ों की लिस्ट लंबी है. लेकिन इस लिस्ट में अब एक नया नाम जुड़ सकता है. नाम है, जेडन सील्स.

2020 अंडर 19 विश्वकप में जिस तेज़ गेंदबाज़ ने अपनी स्पीड और सेलिब्रेशन से सबको अपनी ओर खींचा. वो हैं, जेडन सील्स. लगातार 140 Kph या उससे ऊपर की गेंद और वो भी दोनों तरफ स्विंग के साथ.

अंडर 19 विश्वकप के पहले ही मैच में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार विकेट चटकाकर सबका ध्यान अपनी तरफ खींचा.

 

जेडन सील्स. फोटो: Getty Images

 

जेडन तेज़ गेंदबाज़ कर्टली एम्ब्रॉस को अपना हीरो मानते हैं. उन्हें एम्ब्रॉस का पेशन और स्किल बहुत ज़्यादा पसंद है.

सील्स पर टॉम मूडी का कहना है कि

”वो विकेट से पेस प्राप्त करते हैं, वो पेट कमिंस की तरह ही अपनी रिस्ट का इस्तेमाल करते हैं.”

ये आठ साल 2020 के वो उभरते हुए सितारे हैं, जो भविष्य में अपनी पहचान बना सकते हैं.




दुनिया में कम ही लोग कुछ मज़ेदार पढ़ने के शौक़ीन हैं। आप भी पढ़ें। हमारे Facebook Page को Like करें – www.facebook.com/iamfeedy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Contact

CONTACT US


Social Contacts



Newsletter


You cannot copy content of this page