पाकिस्तान में राज कपूर और दिलीप कुमार के पुश्तैनी घरों की कीमत कितनी तय की गई है?

428


बॉलीवुड के लीजेंड दिलीप कुमार और राज कपूर के पाकिस्तान में पुश्तैनी घरों की कीमत सरकार ने तय कर दी है. दिलीप कुमार के घर की कीमत 80 लाख 56 हज़ार रूपये लगायी गयी है. वहीं राज कपूर की पुश्तैनी हवेली की कीमत 1 करोड़ 50 हज़ार रूपये आंकी गई है. ऐसा क्यों किया गया है, आइए बताते हैं.

 

क्या है पूरा मामला?

पाकिस्तान के चार प्रांतों में से एक है खैबर पख़्तूनख्वा. यहां सरकार ने पेशावर में मौजूद दिलीप कुमार और राज कपूर के घरों को नेशनल हेरिटेज का दर्जा दे रखा है. ये मकान जर्जर अवस्था में हैं. 2018 में पाकिस्तान की सरकार ने  ऋषि कपूर की अपील पर कपूर हवेली को म्यूज़ियम बनाने का फैसला किया था. इसी साल सितंबर में सरकार ने इन ऐतिहासिक धरोहरों को खरीदकर संरक्षित करने का निर्णय लिया. लेकिन एक समस्या थी.

ये दोनों मकान प्राइम लोकेशन पर हैं. इनके मालिक इन्हें तुड़वाकर उनकी जगह कमर्शियल प्लाजा बनवाना चाहते थे. लेकिन आर्कियोलॉजी डिपार्टमेंट इनके ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए इन्हें संरक्षित करना चाहता था. कपूर हवेली के मालिक अली क़ादर ने सरकार से कहा कि वह इसके लिए तैयार हैं, लेकिन सरकार 200 करोड़ रूपये देकर उनके नुकसान की भरपाई करे. सरकार ने मांग ख़ारिज कर दी.

अब पेशावर के डिप्टी कमिश्नर मुहम्मद अली असगर ने दिलीप कुमार और राज कपूर के घरों की कीमत तय की है. दिलीप कुमार के पांच मार्ला में बने घर का रेट 50,259 यूएस डॉलर तय किया गया. राज कपूर के 6 मार्ला में बने घर की कीमत 62,699 आंकी गयी.

अब आप सोच रहे होंगे कि मार्ला क्या होता है. मार्ला दरअसल ब्रिटिश काल में भारत, बांग्लादेश में ज़मीन मापने की एक इकाई थी. जैसे आज स्क्वायर मीटर, एकड़ वगैरह होता है. 1 मार्ला 272. 25 वर्ग फ़ीट या 25. 2929 वर्ग मीटर के बराबर होता है.

किस इलाके में हैं ये घर

राज कपूर का पुश्तैनी घर  ‘कपूर हवेली’ के नाम से मशहूर है. ये पेशावर के क़िस्सा ख़्वानी इलाके में है. राज कपूर के दादा दीवान बशेस्वरनाथ कपूर ने इसे 1918 से 1922 के बीच बनवाया था. इसी घर में राज कपूर और उनके चाचा त्रिलोक कपूर का जन्म हुआ था.

इसी इलाके में दिलीप कुमार का भी घर है. उसे 2014 में तत्कालीन नवाज़ शरीफ सरकार ने नेशनल हेरिटेज घोषित किया था.




दुनिया में कम ही लोग कुछ मज़ेदार पढ़ने के शौक़ीन हैं। आप भी पढ़ें। हमारे Facebook Page को Like करें – www.facebook.com/iamfeedy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Contact

CONTACT US


Social Contacts



Newsletter


You cannot copy content of this page